世界

अमेरिका में दंगे: राष्ट्रपति ट्रंप बोले, ‘जॉर्ज और उनके परिवार को न्याय दिलाऊंगा’

वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने सोमवार को कहा कि जॉर्ज फ्लॉयड (George Floyd) की निर्मम हत्या से पूरा अमेरिका आहत हुआ है और प्रशासन जॉर्ज और उनके परिवार को न्याय दिलाने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है. सभी अमेरिकी ना​गरिक उनकी निर्मम हत्या से दुखी हैं और अपना विरोध दर्ज करा रहे हैं. मेरा प्रशासन पूरी तरह प्रतिबद्ध है. जॉर्ज और उनके परिवार को न्याय मिलेगा. उनकी मौत व्यर्थ नहीं जाएगी. 

ट्रंप ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि राष्ट्रपति के तौर पर मेरा सबसे पहला और बड़ा कर्तव्य है, अपने महान देश और अमेरिका के लोगों की सुरक्षा और बचाव करना. मैंने शपथ ली है कि अपने देश की कानून व्यवस्था को बनाए रखूंगा और मैं ऐसा ही करूंगा. 

रोज गार्डन में ट्रंप के भाषण से पहले पुलिस ने व्हाइट हाउस के पास प्रदर्शनकारियों की भीड़ को तितर बितर करने के लिए आंसू गैस का इस्तेमाल किया.

ट्रंप ने कहा कि हम शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों की आवाज को कुछ नाराज लोगों की भीड़ के नीचे दबने नहीं दे सकते. इस तरह के दंगों का शिकार सबसे ज्यादा हमारे गरीब तबके के शांति पसंद करने वाले नागरिक होते हैं. और उनके राष्ट्रपति के तौर पर मैं उनकी सुरक्षा के लिए लड़ूंगा. मैं आपको सुरक्षित रखने के लिए लड़ूंगा. 

ये भी पढ़ें: अश्वेत फ्लॉयड की मौत के बाद अमेरिका के कई शहरों में प्रदर्शन, व्यापक पैमाने पर हिंसा

ट्रंप ने आगे कहा, ‘मैं देश की कानून व्यवस्था के​ लिए आपका राष्ट्रपति हूं और शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों का साथी. लेकिन हाल के कुछ दिनों में देश पेशेवर अराजकतावादियों, हिंसक भीड़, अपराधियों, दंगाईयों और आगजनी करने वालों की गिरफ्त में आ गया है.’

ट्रंप ने आगे कहा कि हम सही शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों को हिंसक भीड़ का शिकार नहीं होने देंगे. राष्ट्रपति ट्रंप ने इससे पहले अमेरिका में सड़कों पर चल रहे हिंसक प्रर्दशनों को अस्वीकार्य बताया था और कहा था कि किसी भी तरह की अराजकता और कानून का उल्लंघन बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. 

बता दें कि अमेरिका में पुलिस ने अफ्रीकी मूल के शख्स को घुटनों के नीचे दबाकर मार डाला ​था. इस मामले में अब तक मिनीपोलिस के 4 पुलिसकर्मियों को निलंबित किया जा चुका है.  शख्स ने पुलिस से सांस लेने में दिक्कत होने की बात भी बताई थी.

ये भी पढ़ें: डोनाल्‍ड ट्रंप ने की घोषणा, हिंसा में शामिल संगठन एंटीफा को आतंकवादी करार दिया जाएगा

इस मामले पर अधिकारियों का कहना है कि वर्तमान में एफबीआई इस मामले की जांच कर रही है. हालांकि घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद पूरे अमेरिका में विरोध शुरू हो गया है. मेयर जैकब फ्रे ने इस घटना की निंदा की है और कहा कि अधिकारियों ने जॉर्ज फ्लॉयड के सिर को जमीन में दबाना विभाग के नियमों के खिलाफ है. फ्रे ने कहा कि पुलिस अधिकारी को आदमी की गर्दन पकड़ने की गलती नहीं करनी चाहिए थी. आपको बता दें कि यह घटना सोमवार को हुई थी. 

वहीं अमेरिका  में अश्वेत व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड की मौत और पुलिस के हाथों अन्य अश्वेत लोगों की हत्या के विरोध में चल रहे प्रदर्शनों की आंच शनिवार को न्यूयॉर्क से लेकर टुल्सा और लॉस एंजिलिस तक फैल गई. प्रदर्शनकारियों ने पुलिस की कारों में आग लगा दी और दोनों पक्षों से लोगों के घायल होने की खबरें आती रहीं. 

फ्लॉयड की मौत के बाद मिनीपोलिस में शुरू हुए प्रदर्शन ने शहर के कई हिस्सों में जनजीवन अस्त-व्यस्त कर दिया, इसमें इमारतों को जला दिया और दुकानों में लूटपाट की.

मिनीपोलिस में इस सप्ताह तब प्रदर्शन भड़क उठे जब एक वीडियो में पुलिस अधिकारी को आठ मिनट से अधिक समय तक घुटने से फ्लॉयड की गर्दन दबाते हुए देखा गया. बाद में चोटों के कारण फ्लॉयड की मौत हो गई. अश्वेत फ्लॉयड को एक दुकान में नकली बिल का इस्तेमाल करने के संदेह में गिरफ्तार किया गया था.

ये भी देखें:

Close