世界

Twitter ने दी थी चेतावनी, डोनाल्‍ड ट्रंप ने दी कंपनी को बंद करने की धमकी

न्‍यूयॉर्क:  संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बुधवार को सोशल मीडिया कंपनियों को रेगुलेट करने या बंद करने की धमकी दी है. उन्‍होंने ये धमकी ट्विटर के उस कदम के एक दिन बाद दी है जब इस टेक कंपनी ने अमेरिकी राष्‍ट्रपति द्वारा किए गए ट्वीट पर फैक्‍ट चैक करने की चेतावनी दी थी.  ट्विटर इंक ने ट्रंप के कुछ ट्वीट्स में पाठकों को दावों की जांच करने के लिए चेतावनी दी थी. यह पहली बार है जब ट्विटर ने इस तरह की कार्रवाई की है.

इस पर ट्रंप ने बिना कोई सबूत पेश किए, इस तरह के टेक प्लेटफार्मों द्वारा राजनीतिक पूर्वाग्रह के अपने आरोपों को दोहराया है. ट्रंप ने ट्वीट करते हुए कहा, “रिपब्लिकन महसूस करते हैं कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पूरी तरह से रूढ़िवादी आवाज़ों को चुप करते हैं. हम दृढ़ता से उन्हें रेगुलेट करेंगे या बंद कर देंगे, इससे पहले कि हम आगे कभी भी ऐसा होने की अनुमति दें. “

Republicans feel that Social Media Platforms totally silence conservatives voices. We will strongly regulate, or close them down, before we can ever allow this to happen. We saw what they attempted to do, and failed, in 2016. We can’t let a more sophisticated version of that….

— Donald J. Trump (@realDonaldTrump) May 27, 2020

ट्रंप ने एक और ट्वीट कर ट्विटर को अपनी गलती सुधारने को कहा. ट्रंप ने ट्वीट में कहा, “अपने काम को साफ करो, अभी !!!!”

ट्विटर ने पहली बार राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के दो ट्वीट पर चेतावनी का लेबल लगाया. इसके बाद ट्रंप ने उस पर राष्ट्रपति चुनाव में हस्तक्षेप करने का आरोप मढ़ दिया. इसके अलावा उन्होंने सोशल मीडिया मंचों को बंद करने तक की धमकी दे दी. ट्विटर ने मंगलवार को ट्रंप के दो ट्वीट को झूठा दावा करने वाली जानकारी के तौर पर चिन्हित किया. इन ट्वीट में ‘ मेल के जरिये फर्जी मत पत्रों का इस्तेमाल करने और चुनावों में व्यापक मतदाता धोखाधड़ी को बढ़ावा मिलने’ का कथित दावा किया गया है.

ट्रंप ने ट्वीट किया कि ये पत्र पेटियां धोखाधड़ी के अलावा कुछ नहीं है. पत्र पेटियों को लूटा जाएगा. मत पत्रों के साथ जालजासी होगी, यहां तक कि अवैध तरीके से प्रिंट निकाला जाएगा और फर्जी हस्ताक्षर होंगे. कैलिफोर्निया के गवर्नर लाखों लोगों को मत पत्र भेज रहे हैं.

ट्विटर का नोटिफिकेशन दोनों ट्वीट के नीचे नीले रंग का विस्मयादिबोधक चिह्न प्रदर्शित करता है जो पाठकों से कहता है कि ‘मेल इन बैलेट’ के बारे में तथ्य जानिए. ट्रंप ने इसकी प्रतिक्रिया में कहा कि कंपनी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का दम घोंट रही है.

नाराज ट्रंप ने ट्वीट किया, ” ट्विटर 2020 के राष्ट्रपति चुनाव में हस्तक्षेप कर रहा है. वे कह रहे हैं कि व्यापक भ्रष्टाचार और धोखाधड़ी का कारण बनने वाले मेल-इन बैलेट पर मेरा बयान गलत है. यह बात फेक न्यूज सीएनएन और अमेजन के वाशिंगटन पोस्ट द्वारा तथ्यों की तथाकथित जांच के आधार पर कही गई है. “

एक अन्य ट्वीट में राष्ट्रपति ने कहा, “ट्विटर पूरी तरह से बोलने की आजादी का गला घोंट रहा है और राष्ट्रपति के तौर पर मैं यह नहीं होने दूंगा.” बाद में बुधवार की सुबह ट्रंप ने ट्विटर जैसे सोशल मीडिया मंच को ही बंद करने की धमकी दे डाली. ट्रंप ने ट्रवीट किया, ” रिपब्लिकन्स को लगता है कि सोशल मीडिया मंच पूरी तरह से कंजर्वेटिवों की आवाजों को खामोश कर रहे हैं. हम कड़ाई से इसका नियमन करेंगे या उन्हें बंद कर देंगे.’

Close